जब मैं चला जाऊँगा

शीर्षक–जब मैं चला जाऊँगा

तुम्हारी ज़िन्दगी से
जब मैं चला जाऊँगा
तुम ढूंढोगी मुझे बदहवास हो कर
पर मैं लौट ना पाऊंगा
अभी पागल कहती हो न मुझे
तुम याद रखना
जाते जाते तुम्हे मेरे लिए
पागल ही कर जाऊँगा

तुम अभी कहती हो ना
की चले जाओ
तो मैं चला जाऊँगा
अपनी यादो को कुछ ऐसे दे जाऊँगा
बदलते वक़्त और हालात में
मैं तुम्हे हर पल याद आऊँगा

अभी कहती हो ना की
फ़िक्र नहीं तुम्हे मेरी
पर याद रखना
मैं तुम्हारे आँखों के नीचे लगे
काजल की मानिंद ही
तुम्हारे अश्को के साथ बह जाऊँगा
तुम पुकारोगी पर मैं लौट ना पाऊंगा

तुम रिश्ता तोड़ना चाहती हो ना
मेरे दिल की तरह
ठीक है तो तोड़ लो अब

बस इतना करना
आखिरी बार मेरे लिए
मेरे दिए गुलाब को
मेरी लाश पर चढ़ा देना
तुम बुलाना मत मुझे
मैं जहाँ जाऊँगा
तुम बुलाओगी भी तो
लौट ना पाउँगा —-अभिषेक राजहंस

12 Comments

  1. nitesh banafer nitesh banafer 23/05/2018
    • Abhishek Rajhans 24/05/2018
  2. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 24/05/2018
    • Abhishek Rajhans 24/05/2018
    • Abhishek Rajhans 24/05/2018
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/05/2018
    • Abhishek Rajhans 24/05/2018
  4. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 24/05/2018
    • Abhishek Rajhans 25/05/2018
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/05/2018
    • Abhishek Rajhans 25/05/2018

Leave a Reply