बर्फ़ भी आज हमारा

ख़बर वहां के पहाड़ों से रोज़ आती है
पड़ोसी गोली से अपनों की जान जाती है

वो कैसे लोग हैं, मरने से जो नहीं डरते
ज़मीन छोडने से शान पे बन आती है

बमों और गोलियों से नाम जितने भी हैं जुडे़
अब उनके नाम की पहचान भी डराती है

वो लोग भी हैं जिन्हें दोस्तों ने लूटा है
हो दिन या रात, याद गांव की सताती है

वतन हमारा है अफ़सोस हम मुहाजिर हैं
बर्फ़ भी आज हमारा बदन जलाती है

Leave a Reply