सादगी

उड़ते बाल जब

चेहरे पर आ जाते है

लहराती हैं हवाऐ

पर्वत गीत गाते हैं |

पलकें आपकी तो

हया बहुत लुटाती हैं

काले बादलों में जैसे

मेघ घनघनाते हैं |

छोटे-छोटे दाँत दिखाकर

बच्चे जैसे हंश जाते हैं

ऐसी मासूम हंशी से

आप मुस्कुराते हैं |

खड़ी कोई तस्वीर जैसे

अपने को समेटे हुये

अपनी ही सादगी में

आप जगमगाते हैं |

9 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 22/05/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 22/05/2018
  3. rakesh kumar Rakesh kumar 22/05/2018
  4. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 22/05/2018
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 22/05/2018
  6. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/05/2018
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 23/05/2018
  8. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/05/2018
    • rakesh kumar rakesh kumar 24/05/2018

Leave a Reply