विक्षोभ – आलोक पाण्डेय

विक्षोभ
——————–
स्तब्धित दिशाएँ
बेकली हवाएँ
व्यथित अंबर
कह रहा आज –
बेहद निर्मोही ,
बडी निर्दयता से ‘ कैसी ‘ –
मिट रही , क्यों कोई मिटा रहा लाज !
नष्ट हो रहे प्राण
हा ! विकट रूग्णता , घोर त्राण !
नष्टप्राय संसाधन हो रहे विलुप्त ,
दुःखद, मिट रहे संतान ;
गंभीर विप्लव की ओर बढ रही धरा
सौम्यता भी खो चुकी आज
लुप्त , हो रहे मृतप्राय जनमानस वितान !
लूट रही सौम्य प्रकृति अनवरत…
परिणाम ,
दुःखद् भयावह
जन विकल उद्वेलित
भाव – भंगिमाएँ भी चढी हुयी
निरस , निकृष्ट |
हो रहा सब कुछ अनर्थ,
कराल- काल , कवलित करने राख
दीखा रही किसी अवश्यंभावी विध्वंस को !
बहुत देर हो चुकी बीते क्षण-क्षण ,
घीर चुकी नैतिकता
सब उपक्रम व्यर्थ
हो गयी मलिन रेखा सम्पन्नता की ;
क्षीण उर्वरा ,
बहुत कटुता ! विकलता !! विक्षोभ !!!

©
कवि आलोक पाण्डेय

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/05/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 16/05/2018
    • rakesh kumar Rakesh kumar 16/05/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/05/2018
  4. rakesh kumar Rakesh kumar 16/05/2018

Leave a Reply