तपते सहरा में जैसे

हवा में आज ये तुमसे जो मुलाकात हई
तपते सहरा में जैसे प्यार की बरसात हुई

पहली मुस्कान तेरी आज भी है याद मुझे
ऐसा दिन निकला जिसकी फिर न कभी रात हुई

तेरा मासूम सा चेहरा मुझे तडपाता है
न कभी बुझ सके ऐसी है मेरी प्यास हुई

तेरे हालात की मजबूरियों से वाकिफ़ हूँ
देखता दूर से तड़पूं, भला क्या बात हुई

पूजता हूं तुम्हें मैं आज भी चाहूं दिल से
रब से मांगूंगा न कुछ, गर तू मेरे साथ हुई

Leave a Reply