ये कौन सा सभ्य समाज है (1)- डी के निवातिया

ये कौन सा सभ्य समाज है

(भाग – एक )

***

ये कौन सा सभ्य समाज है, ये किस सदी का राज़ है
मानव का मानव दुश्मन, लुप्त प्राय: लोक-लाज है !!
क्रूरता की हद पार हुई है
इंसानियत शर्मशार हुई है
जनक-सुति पर जुर्म ढहाते है
सच्चे भक्त राम के कहलाते है
परतर नारी शक्ति का प्रचार करे
अभ्यंतर अवसरवादी दुराचार करे
पर पीड़ा का करे आभास नहीं
दूजी सुख-समृद्धि आये रास नहीं
मन मस्तिष्क में तांडव नाचे
मुखारविंद से वेद पुराण बांचे
बाहें-गाहे स्वयं बखान करे
निश महिमा गुणगान करे
क्रूरता पुरषार्थ का गहना आज
किस विद पड़े जुर्म सहना आज
ये किस दुनिया में हम जीते है
घूँट अधर्म अन्याय का पीते है
ये कौन सा सभ्य समाज है, ये किस सदी का राज़ है
मानव का मानव दुश्मन, लुप्त प्राय: लोक-लाज है !!

!

डी के निवातिया

 

14 Comments

  1. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 03/05/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2018
  2. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 03/05/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2018
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 03/05/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2018
  4. mukta mukta 03/05/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2018
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 04/05/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2018
  6. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 04/05/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2018
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/05/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/05/2018

Leave a Reply