हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में

।। हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में ।।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर- डर के आगे बढ़ते हैं ।
चंचल तू हमेशा बनी रहे।
तेरे माथे पर न शिकन पड़े ।
कुछ झूठा-झूठा हँसते हैं ।
तुम को प्रिय खुश रखने की
हम हर पल कोशिश करते हैं ।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर- डर के आगे बढ़ते हैं ।
H.D.चैनल चलवा कर
LED भी फिट करवा कर
नई तकनीक की मशीनों से
नित अपना घर हम भरते हैं ।
पूरी जांबाज़ी से हे प्रिय!
हर जुल्म तेरा हम सहते हैं ।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर- डर के आगे बढ़ते हैं ।
हर माह फिल्म दिखलाता हूँ ।
Shopping भी खूब कराता हूँ ।
काम न करना पड़े तुम्हें
नौकरानी का बोझ उठाता हूँ ।
Beauty parlour न miss हो जाए कहीं
कहीं purse न खाली हो जाए!
सारी कमाई लाकर प्रिय!
तेरे ही हाथ में धरते हैं ।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर- डर के आगे बढ़ते हैं ।
श्रोता पक्का मैं बना रहूँ ।
जुबान कहीं न खुल जाए।
हर dress में unfit हो चाहे
तारीफ मेरी fit कर जाए।
तेरे over makeup पर भी
रसीले शेर हम कहते हैं ।
इतने पर भी देखो प्रिय
मिलने के पल को तरसते हैं ।
विरह की आग में जलते हैं ।
हे प्रेम तुम्हारी मज़दूरी में
डर-डर के आगे बढ़ते हैं ।।
।।मुक्ता शर्मा ।।

12 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 02/05/2018
    • mukta mukta 02/05/2018
  2. davendra87 davendra87 02/05/2018
    • mukta mukta 03/05/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 03/05/2018
    • mukta mukta 03/05/2018
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 03/05/2018
    • mukta mukta 03/05/2018
  5. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 03/05/2018
    • mukta mukta 03/05/2018
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 03/05/2018
    • mukta mukta 03/05/2018

Leave a Reply