हिस्से जिंदगी के

चलती रहेंगी यु ही यही राहे,
पीछे छूटती यादो से ताल्लुक रखकर तो देखो!
.
अच्छाइयो के पन्ने तो अक्सर पलट ही जाते है ,
जरा गलतियो के पन्नो से ताल्लुक रखकर तो देखो

टकराती तो सिर्फ यहाँ नजरे है ..
जरा खामोशियो के चेहरे पढ़कर तो देखो !

निभाते हो रिश्ते आज उंगलियों के सहारे,
 ज़रा वक्त निकालकर पास जाकर तो देखो !

नगमों की धुन में सभी मस्त हो जाते है ,
ज़रा कविताओं के पंक्तिओं से ताल्लुक रखकर तो देखो !
                                      इन पंक्तिओं से ताल्लुक रखकर तो देखो …

       अंजली यादव 

                                                                K.G.M.U LKO

5 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/04/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/04/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/04/2018
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/04/2018
  5. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 26/04/2018

Leave a Reply