शायरी

काश कोई मान लिया होता मेरी बातों को
वो बदल के रख देता इन कमज़र्फ हालातों को
मेरी ज़िंदगी न बनती कभी शतरंज की एक विसात
अगर किसी ने समझ लिया होता मेरे जज्बातों को

3 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 24/04/2018
    • कृष्णा पाण्डेय Krishna121 24/04/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/04/2018

Leave a Reply to Shishir "Madhukar" Cancel reply