बिछुरे मग जाती सँघाती

बिछुरे मग जाती सँघाती मिली चख चाति कै धार सवाती मिली ।

रसना जड़ की सरसाती मिली चित सूम को सोन की थाती मिली ।

जड़ बूड़ति नाव सोहाती मिली बिरहा कतलान की काती मिली ।

कहि तोष सबै सुख पाती मिली सजनी पियपानि की पाती मिली ।

Leave a Reply