गोपिन के अँसुवान के नीर

गोपिन के अँसुवान के नीर पनारे बहे बहिकै भए नारे ।
नारे भए ते भई नदियाँ नदियाँ नद ह्वै गए काटि कगारे ।
बेगि चलौ तो चलो ब्रज को कवि तोष कहै ब्रजराज दुलारे ।
वे नद चाहत सिँधु भए अब सिँधु ते ह्वै हैँ जलाजल खारे ।

Leave a Reply