आओ जिन आइबे को गहो जिन गहिबे को

आओ जिन आइबे को गहो जिन गहिबे को ,
गहे रहिबे को छोड़ि छोड़िकै सुनावती ।
खीझिहू को रीझि झिझिकारिबो मया है अरु ,
रोसै रस ज्योँ ज्योँ भृकुटीन को चढ़ावती ।
कहै कवि तोष हाँ को नाहिँये कहत नारि ,
रावरी सोँ तुमसो न भेद मैँ दुरावती ।
सुख जो चहौगे तो न भरम गहौगे लाल ,
निपट निबोढ़न की पारसी बतावती ।

Leave a Reply