लाज बिलोकन देत नहीँ रतिराज

लाज बिलोकन देत नहीँ रतिराज बिलोकन ही की दई मति ।

लाज कहै मिलिये न कहूँ रतिराज कहै हित सोँ मिलिये यति ।

लाजहु की रतिराजहु की कहै तोष कछू कहि जात नहीँ गति ।

लाल निहारिये सौँह कहौँ वह बाल भई है दुराज की रैयति ।

Leave a Reply