तेरियै चित्र के काज हमै करि

तेरियै चित्र के काज हमै करि तोष सबै ब्रजराज दये हैँ ।

पत्र बिचित्र बिचित्र बनाइ सिखाइ सबै बहु मोद मये हैँ ।

रँग बनावत अँग लगे सर ल्यावत लेखनी काज नये हैँ ।

एरी भटू ! बलि तेरे लिये हरि मेरे चितेरे के चेरे भये हैँ ।

Leave a Reply