बेवकूफ़ – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा (बिन्दु)

चंदन की लकड़ी समझ, मैं बबूल घीसता रहा
मूर्खता थी मेरी, जो उसूल पीसता रहा
चापलूसी, ठग बजारी से, कहाँ तक बचियेगा
जिसे वाटर प्रूफ समझा, वह भी रीसता रहा।

अपने आप को उनके सांचे में ढालना आ गया
हम तो नाहक बेवकूफ़ बने रहे इस जमाने में
भला हो उनका जिनकी वजह मुझे चलना आ गया।

9 Comments

  1. davendra87 davendra87 17/04/2018
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 19/04/2018
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 17/04/2018
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 19/04/2018
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/04/2018
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 19/04/2018
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 19/04/2018
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 19/04/2018
  6. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/04/2018

Leave a Reply