बंद.. Raquim Ali

दो अप्रैल, सन् अठारह को
SC/ST का भारतबंद
‘दस’ को सवर्ण करेगा भारतबंद;
‘चौदह’ को फिर SC/ST का भारतबंद
OBC का बंद अभी तो बाकी है
अभी तो बाकी है सिख, जाट का भारतबंद
मुस्लिम सोचता है, कब वह करेगा भारतबंद ?

जाति-पांति
धर्म-सम्प्रदाय
में
बंटा हुआ
और
आहत,
कुछ सहमा-सहमा सा
कुछ धीमी आवाज़ में
यह देश पूंछ रहा है-
‘मेरे प्यारों, लड़ना-झगड़ना कब बंद करोगे?
मेरे प्यारों, नफ़रत से रहना कब बंद करोगे?

किसका इंतजार कर रहे हो-
सिकंदर का
लंगड़े तैमूर का
गोरी का
या फिर
टामस रो का?
अब तो
ऐसा कोई ‘बाहर से’ नहीं आएगा
अब इतिहास खुद को नहीं दोहराएगा!

तुम्हें यहीं रहना है
तुम्हें यहीं जीना है
यहीं मरना है;
चाहो तो शांति से
चाहो तो, लड़-भिड़ कर मर जाओ;
यह तो तुम्हारी चाहत पर है, प्यारों
चाहो तो, गीदड़ बन कर मरो
चाहो तो, वीरगति को पा जाओ!’
..र.अ. bsnl

8 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 05/04/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 05/04/2018
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/04/2018
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/04/2018
  5. raquimali raquimali 06/04/2018
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 06/04/2018
  7. C.M. Sharma C.M. Sharma 07/04/2018
  8. raquimali raquimali 07/04/2018

Leave a Reply