बेरुखी -डी के निवातिया

बेरुखी

***

करके बेवफाई, खुद को, नज़रें मिलाने के काबिल समझते हो
बात बात पर देकर दुहाई मुहब्बत कि, हम ही से उलझते हो
कहाँ से सीखा हुनर, इश्क में रुसवाई का, तूने मेरे सितमगर
गैरो पे करम, हम पे सितम करके, तुम बेरुखी से गरजते हो !!

 

डी के निवातिया

 

16 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/03/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/03/2018
  2. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 21/03/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/03/2018
  3. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 21/03/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/03/2018
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/03/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/03/2018
  5. mukta mukta 22/03/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/03/2018
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 23/03/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/03/2018
  7. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 23/03/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/03/2018
  8. C.M. Sharma C.M. Sharma 24/03/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/03/2018

Leave a Reply