दिल-ए-खल्क़ मे

गम-ए-दरिया उतर आया दिल-ए-खल्क़ मे,
कुछ इस क़दर अल्फ़ाज़ ने मुरीद बना दिया….

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/03/2018

Leave a Reply