मत हौंसले तोड़

मत हौंसले तोड़ पंख टूटे हुए परिंदे, कि रास्ता अभी बाकी है।
एक ज़ुनून सा  दिल में जगा तू बस,  तेरे लिए बस इतना ही काफ़ी है।
सर्वेश कुमार मारुत

6 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 20/03/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/03/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/03/2018
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/03/2018
  5. kushagra singh 21/03/2018
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 22/03/2018

Leave a Reply