घटाएं प्यार की- शिशिर मधुकर

प्यार जब दिल में होता है तो आँखों से झलकता है
यार ग़र सामने हो सांसों में शोला दहकता है

मुहब्बत ज़िन्दगी में फूलों की खुशबू के जैसी है
जिसके कारण सदा जीवन का ये गुलशन महकता है

उल्फ़त के नशे की लत लगी जिसको ज़माने में
यार की आँखों से पी कर वो तो हरदम बहकता है

घटाएं प्यार की आकाश में जब घिर के आती हैं
मिलन की आस में मन का मयूरा तो चहकता है

मुहब्बत ने तराशा हो जिसकी तकदीर को मधुकर
वो हीरा तो किसी भी हाल में हरदम लहकता है

शिशिर मधुकर

12 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 20/03/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/03/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/03/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/03/2018
  3. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 21/03/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/03/2018
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/03/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/03/2018
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 21/03/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/03/2018
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 22/03/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/03/2018

Leave a Reply