मॉ बाप – अरूण कुमार झा बिट्टू

देखे हैं बड़े मॉ बाप को बोझ समझने वालो को
खुशियां उनके दर से कोसो दूर हैं।

Leave a Reply