वजूद की तलाश

निकला जो वजूद की तलाश में,
मिला एक मोड पे खुदी से मैं,

हरदम खुश रहने वाला था जो कभी,
कितना उदास अब लगता हूं मैं,

मिल जाए कभी जवाब उदासी से,
खुद से ही सवाल पूछता हूं मैं,

आईना देख कर लगा यूं की जैसे,
किसी अजनबी से शायद मिला हूं मैं,

ना आवाज, ना अहसास, ना ही थे आंसू योगी,
वक्त के साथ कहीं खो गया हूं मैं,

8 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 10/03/2018
    • yogesh sharma Yogesh 10/03/2018
  2. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 10/03/2018
    • yogesh sharma Yogesh 11/03/2018
  3. yogesh sharma Yogesh 11/03/2018
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/03/2018
    • yogesh sharma Yogesh 12/03/2018
  5. chandramohan kisku chandramohan kisku 10/04/2018

Leave a Reply