मैं नादान हूँ – अनु महेश्वरी

अब भी गिरती हूँ,
फिर संभलती हूँ,
फिर उठती हूँ,
फिर चल पड़ती हूँ,
मैं नादान हूँ|

अब भी गलतियां करती हूँ,
फिर कुछ सीखती हूँ,
फिर नए सपने बुनती हूँ,
फिर आगे बढ़ जाती हूँ,
मैं नादान हूँ |

कभी खामोश हूँ,
कभी खिलखिलाती हूँ,
कभी उदास तो कभी खुश हो जाती हूँ,
ज़िन्दगी के हर पल को जीती हूँ,
मैं नादान हूँ|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

8 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 09/03/2018
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 18/03/2018
  2. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 09/03/2018
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 18/03/2018
  3. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 09/03/2018
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 18/03/2018
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/03/2018
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 21/03/2018

Leave a Reply