हो गयी…… काजल सोनी

चाह कर तुझे दिल में बड़ी बेकरारी हो गयी
इश्क में तेरे, मेरे मरने की तैयारी हो गयी ।

जलने लगा हूँ मैं तेरी चाहत के आग में
नजरे तेरी मेरे लिए एक चिंगारी हो गयी ।

ओढ़ घुंघटा अब तु गली से गुजरने लगी
बड़ी अजब ये तेरी होशियारी हो गयी ।

आती नहीं रातो को नींद भी मुझको
यादों में तेरे जागने की बीमारी हो गयी।

क्या थी खबर तुझे मेरी जाने वफा
सह कर दर्द गमों से मेरी यारी हो गयी ।

सिद्दत से तुने हाथ क्या थामा मेरा
मेरे दुश्मनों की अब हार करारी हो गयी।

तु कह दे तो मैं मौत को भी लगा लू गले
दिल जिगर की बातें तो पुरानी हो गयी।।

” *** काजल सोनी” क्रांति ”
***

2 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 01/03/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 02/03/2018

Leave a Reply