जीवन :लड़कियों की

प्रतिदिन ही अखबार में
खबर बन रही है
लड़कियाँ

कही पर उसकी
इज्जत लूटी गई है
कही पर उसे
डायन कहा गया है
और कही पर उसे
जिन्दा जला दिया गया है

अपनों के बीच
रहने पर भी
वह अकेला ही–
नरक की जीवन
जी रही है

माँ की गर्भ में
रहने पर भी
उसे शांति कहाँ
लोग जान जायेंगे तो
वह बच नहीं पायेगी.
अब चारों ओर
अपनी आँसू गिरा रही है
औरतें.

सबको इज्जत देती
प्यार बाँटती है हर पल
और वह खुद
एक बून्द प्यार के लिए भी
तरसती रहती है.

5 Comments

  1. arun kumar jha arun kumar jha 19/02/2018
  2. sukhmangal singh 20/02/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/02/2018
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 20/02/2018
  5. Kajalsoni 21/02/2018

Leave a Reply