प्यार के सारे तुम एहसास दे देना ,,,,,

लगाकर गले से मुझको सनम
प्यार के सारे तुम एहसास दे देना
गा उठें मेरे दिल की धड़कनें सभी
साँसों को मेरी तुम साज़ दे देना
लगाकर गले से मुझको सनम
प्यार के सारे तुम एहसास दे देना ,,,,

थामकर अपने हाथों में हाथ मेरा
हर सफ़र में मेरा तुम साथ दे देना
राहें खिल जाएगी ज़िंदगी की सभी
मेरी राहों को तुम अंज़ाम दे देना
लगाकर गले से मुझको सनम
प्यार के सारे तुम एहसास दे देना ,,,,,,,,

पलकों को मेरी अपने होंठों से छूकर
अपनी आँखों के सारे ख़्वाब दे देना
बूँदें शबनम की पाक़ हो जाएगी
अपने अश्क़ों का मुझको ज़ाम दे देना
लगाकर गले से मुझको सनम
प्यार के सारे तुम एहसास दे देना ,,,,,

ठहर जाऊँ जो मैं ज़िंदगी के सफ़र में
उम्मीदों का रोशन चिराग़ दे देना
शब-ए-ज़िंदगी के अँधेरों में भी
जुगनुओं की मुझको तलाश दे देना
होंगी मुक़म्मल हसरतें मेरे दिल की
बस इतना सा मुझको विश्वास दे देना
लगाकर गले से मुझको सनम
प्यार के सारे तुम एहसास दे देना ,,,,,।।

सीमा “अपराजिता “

7 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharmaकक 12/02/2018
    • सीमा वर्मा सीमा वर्मा 12/02/2018
    • सीमा वर्मा सीमा वर्मा 12/02/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/02/2018
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/02/2018
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 12/02/2018
  5. Kajalsoni 16/02/2018

Leave a Reply