मेरा कुसूर.._अरुण त्रिपाठी

*मेरा कसूर नहीं..*

इससे ज्यादा मेरा कसूर नहीं||
मुझ पर चलता तेरा गुरूर नहीं।।

तेरी फितरत ने तुझ को दूर किया,
मेंरी नजरों में दिल से दूर नहीं।

तेरी हर हाँ में हाँ करूँ यूँ ही,
अब्द बन के तेरा जरूर नहीं।

रंजों ग़म सारे भूल जाऊँ पर,
तेरी आँखों में वो सुरूर नहीं||

अपनी किश्मत से आज जिन्दा हूँ,
अब भी मैं कहता ‘जी हजूर’ नहीं।

अश्किया अब भी मेरी नजरों में,
तेरे जैसा है कोहिनूर नहीं।

-‘अरुण’
(अब्द=दास,अश्किया=जुल्म करने वाला)

12 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/01/2018
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 20/01/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/01/2018
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 20/01/2018
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 20/01/2018
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 20/01/2018
  4. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 20/01/2018
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 22/01/2018
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/01/2018
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 22/01/2018
  6. Kajalsoni 25/01/2018
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 30/01/2018

Leave a Reply