सफर बाकी है…सी.एम्.शर्मा (बब्बू)…

उम्र भी
ता ज़िन्दगी
मेरे साथ ही चली
मैं थक गया वो
नहीं थकी
कहे चल और
अभी तो सांस
उखड़ने का
वक़्त है और
कि अभी
सफर की
रात और है
तेरे हिस्से में
जान और है
यूं बैठा तो
लुट जाएगा
अंत से पहले
मिट जाएगा

फर्क नहीं
कौन जीता
कौन मरता है
हर कोई अपना
पेट भरता है
तेरे हाथ से
लाठी ले लेंगे
अपनी काठी
तुझे दे देंगे
बोझ से तू न
रुक पायेगा
न चल पायेगा
उठ चल के
अभी वक़्त
बाकी है
तेरी साँसों का
सफर अभी
बाकी है
\
/सी.एम्.शर्मा (बब्बू)

12 Comments

  1. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 17/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 19/01/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 19/01/2018
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 19/01/2018
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 18/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 19/01/2018
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 20/01/2018
  6. Kajalsoni 21/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 22/01/2018

Leave a Reply