कविता :– किसान कैसे तेरे हालात है, कवि :– अमन नैन

किसान कैसी तेरे हालात है
रो रहा वर्तमान है
सामने तेरे अंधकार है
है शीत कैसा पड़ रहा
वो थरथराता गात है
है आधी अँधेरी रात
तो भी किसान खेत में
करते निरंतर काम हैं
किस लोभ से वह
लेता नहीं विश्राम हैं
खड़ी फसल जल रही
सूद-ब्याज बढ़ रहा
बेटी की शादी के कर्जे के
बोझ में निरंतर दब रहा
कहर बाढ़ का भी सताता है
सूखा भी तुम्हे तड़पता है
ठंड बीती बिना रजाई है
सीने में अरमानो की
आग निरंतर सुलग रही
दुःख तो मेरा घर है
सुख मेरा मेहमान है
कहते मुझको अन्न का दाता
अमन यही मेरी पहचान है
अमन यही मेरी पहचान है

7 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/01/2018
    • Aman Nain Aman Nain 16/01/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 16/01/2018
    • Aman Nain Aman Nain 17/01/2018
    • Aman Nain Aman Nain 17/01/2018
  3. Kajalsoni 16/01/2018
    • Aman Nain Aman Nain 17/01/2018

Leave a Reply