सजे सजाये ताज उतर जाते हैं…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

मेरी तरह आप भी मुस्कुराया कीजिये….
दर्दे सागर हरदम न छलकाया कीजिये….

मुफलिसी भगाने का मजबूत इरादा रखो…
हर किसी के आगे हाथ न फैलाया कीजिये…

गर पाना है खुदा को तो इतना ही कीजिये…
भूके बच्चे को अपने हाथ से खिलाया कीजिये…

हो रात सर्द ओ कुहर भरी रूह गरमा जाती है….
किसी बच्चे को प्यार की गर्मी ओढ़ाया कीजिये…

सजे सजाये ताज उतर जाते हैं पल में ‘चन्दर’…
बददुआ मज़लूम की सर न चढ़ाया कीजिये…
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

16 Comments

  1. Kajalsoni 15/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 17/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 17/01/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 17/01/2018
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 17/01/2018
  4. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 15/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 17/01/2018
  5. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 15/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 17/01/2018
  6. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 15/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 17/01/2018
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/01/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 20/01/2018

Leave a Reply