गुनगुनी सी धूप — डी के निवातिया

गुनगुनी सी धूप

शरद ऋतू में पीली सुनहरी गुनगुनी सी धूप
कुहासे की श्वेत चादर में लिपटे रवि का रूप
फुर्रफुराती कलँगी में डाल-डाल फुदकते पंछी
अच्छा लगे अलसायी बेलो का निखरता स्वरुप !!

डी के निवातिया

***

 

12 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 09/01/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/01/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 10/01/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/01/2018
  3. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 11/01/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/01/2018
  4. Kajalsoni 11/01/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/01/2018
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/01/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/01/2018
  6. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/01/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/01/2018

Leave a Reply