दिल को तेरी बातें सुनाऊँ…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

दिल को तेरी बातें सुनाऊँ….
ऐसे अपना मन बहलाऊँ…
गर बात करे तेरी कोई मुझसे…
उसको दुनिया के ढंग समझाऊँ….
तुमको उन सबसे छुपाऊं….
उल्फत का मैं धर्म निभाऊं….
दिल को तेरी बातें सुनाऊँ….

शर्मों हया में जकड़ी तू है…
मर्यादा में पंख कटे हैं मेरे…
तेरी मेरी धुन में रमे हैं…
मेरे तेरे शाम सवेरे…
लगे तमाम शाहों के पहरे…
कैसे कटें उनके ये घेरे…
रुक रुक कर खुद को बतलाऊँ…
दिल को सब पहलू समझाऊँ…
दिल को तेरी बातें सुनाऊँ….
ऐसे अपना मन बहलाऊँ…

बहरे कान हैं दिल बेज़ुबान है…
दुनिया में हर कोई भगवान् है…
ऐसे भगवानों की दुनिया में…
अपनी प्रीत को कैसे निभाऊं…
तेरी लाज को कैसे बचाऊं…
हर पल अपने को समझाऊँ…
दिल को यूं हर बार मनाऊं…
दिल को तेरी बातें सुनाऊँ….

नाव में मेरी पत्थर हैं भरे…
भाव समंदर उठती लहरें…
हिचकोले खाती चलती है…
डोर बंधी माहि संग गहरे…
उस छोर कब अपने को पाऊं…
तेरी सुनूं अपनी कह सुनाऊँ…..
दिल से दिल की बात कराऊँ…
यूं तुझ संग मैं प्रीत निभाऊं…
दिल को तेरी बातें सुनाऊँ….
ऐसे अपना मन बहलाऊँ…
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

12 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 30/12/2017
  2. Kajalsoni 29/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 30/12/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 30/12/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 30/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 30/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 01/01/2018

Leave a Reply