ज़िन्दगी की गाड़ी – अनु महेश्वरी

आज वक़्त ने जिस दहलीज पे ला खड़ा किया है,
खामोशी में बस अपनी ही आवाज़ सुनाई देती है|

आज काफ़ी रिश्तो से जैसे साथ ही छूट गया है,
कुछ ने शहर, तो, कुछ ने, दुनिया ही छोड़ दी है|

यादों की लहरे दिल के समंदर में जब मचलती है,
अश्रु बन, आँखों के जरिये, बस निकल पड़ती है|

ज़िन्दगी की गाड़ी, यहाँ किसी की, कब रुकी है?
यादों को दिल में बसाए, हम भी जिए जा रहे है |

धीरे धीरे इस साल के, बीते पलों पे, पर्दा गिर रहा है,
फिर एक नया साल, नई उम्मीदों के साथ, आ रहा है|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

19 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/12/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 24/12/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 24/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/12/2017
  4. Kajalsoni 24/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/12/2017
  5. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 24/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/12/2017
  6. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/12/2017
  7. डी. के. निवातिया Dknivatiya 25/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/12/2017
  8. Madhu tiwari Madhu tiwari 25/12/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 26/12/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 26/12/2017
  9. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 02/01/2018
  10. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/01/2018

Leave a Reply