मुहब्बत

तू मुहब्बत की कोई तस्वीर होती

बड़े प्यार से मै गले से लगाता

अगर तू मूरत हकीकत की होती

मेरे घर में तेरा मंदिर बनाता

—————–//**–

शशिकांत शांडिले, नागपुर

भ्र.९९७५९९५४५०

 

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017