पहचान

पहचान
“”””””””””””””””

प्रेम संगीत जीवन का
मुरली मधुर बजायेंगे
आपस में सब भेद मिटाकर
गीत प्रेम के गायेंगे
प्रेम सागर से
सबके दुख मिटायेंगे
पर्वत से ऊँचा लक्ष्य
पर हम पहुँच जायेंगे
फूलो सी है इसकी खुशबू
जीवन को महकायेंगे
धनी-धनी सी हरयाली
सब धनी बन जायेंगे
सूरज सी ही तेज रोशनी
जीवन को चमकायेंगे
चाँद सी शीतलता
चाँदनी सुख शान्ति फैलायेंगे
नदिया सी अविरल
धारा सतत प्रवाह बनायेंगे
इसकी गंगा में नहाकर
सब पावन बन जायेंगे
सबकी स्नेह और आशिर्वाद पाकर
एक अलग पहचान बनायेंगे !!

✍🏻✍🏻@मु.जुबेर हुसैन

6 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 15/12/2017
    • md. juber husain md. juber husain 17/12/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 16/12/2017
    • md. juber husain md. juber husain 17/12/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
    • md. juber husain md. juber husain 17/12/2017

Leave a Reply