जयति जय जय माँ भारती

*जयति जय जय माँ भारती..*

जयति जय-जय माँ भारती,
जन गण करें आरती।

देव-धरा ये,वेद बखानी,
मानस-गीता,गुरु की बानी|
राम-लखन जहाँ वन-वन बिहरें,
केशव बनें सारथी।

जयति जय जय माँ भारती,
जन गण करें आरती।

सप्त नदी मिल लहरें कल-कल,
कण-कण पावन,भावन निर्मल|
यमुना की है शीतल धारा,
भागीरथी तारती।

जयति जय जय माँ भारती,
जन गण करें आरती।

भाँति-भाँति की भाषा बोली,
एक सभी मिल बनें रँगोली।
पूज्य सभी रूपों में नारी,
लक्ष्मी औ दुर्गा सती|

जयति जय जय माँ भारती,
जन गण करें आरती।

जयति जय ….

-‘अरुण’

8 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 15/12/2017
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 15/12/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/12/2017
  3. अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 15/12/2017
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 16/12/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/12/2017
    • अरुण कुमार तिवारी अरुण कुमार तिवारी 16/12/2017

Leave a Reply