हिन्दुस्तान बन जाता है

अनेकता में एकता का भाव पैदा करे जो , सबसे बड़ा वो वरदान  बन  जाता है ।
जाति पांति , रंग रूप का जो छोड़े भेद भाव , धर्मनिरपेक्ष वो महान बन जाता है ।
नृत्य अतरंगी , सतरंगी वेश भूषा हो , ढेरों भाषाओं का समूह सबकी शान बन जाता है ।
विश्व  नमन  करे  जिसको  फिर  वो ,  जगतगुरु  हिंदुस्तान  बन  जाता  है ।

 

कवि – मनुराज वार्ष्णेय

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/12/2017
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/12/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/12/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/12/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 13/12/2017

Leave a Reply