अमन की खुशबु – अनु महेश्वरी

आओ मिल सब, चाहत के, फूल हम खिलाए,
न हम झगड़े, न ही और हम नफ़रत ही फैलाए|

सामंजस्य अपना बना रहे, और एकता हम दिखलाए,
किसी के फ़ायदे के लिए, हमे कोई अब न बिखराए|

यह देश हमेशा रहेगा, यह बात अपनी सोच में लाए,
जाती-धर्म से ऊपर, देश है, यह ख्याल हम रख पाए|

शांति का हो माहौल यहाँ, न कोई हमें अब और बहकाए
आओ मिल सब, अमन की खुशबु से, चमन को महकाए|

 

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

14 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 10/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/12/2017
  2. डी. के. निवातिया Dknivatiya 10/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/12/2017
  3. Vimal Kumar Shukla Vimal Kumar Shukla 10/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/12/2017
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 11/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/12/2017
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 11/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/12/2017
  6. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 11/12/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/12/2017
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/12/2017
  8. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 14/12/2017

Leave a Reply