मैंने जाकर पूछा पंडित से

मैंने जाकर पूछा पंडित से दुःख दर्द कितने शेष रह जायेंगे
एक भी गृह शेष बचेगा या सब मुझसे टकराएंगे
कोई सरल सा उपाय बताकर मेरे दुःख दर्दों को दूर करों
वर्ना जल्द ही दिन आएगा जब आप मेरे जनाजे में जायेंगे

बातें सुन सुुुन के मेरी पंडित लगा जोर से हँसने
और बोला अति मंद गति से
तुम्हारी हालत का उपाय तुम ही हो हम क्या तुम्हे बतायेंगे
जाकर मेहबूबा से इजहार कर दो अब वो ही तुम्हे बचाएंगे

 

कवि – मनुराज वार्ष्णेय

8 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 10/12/2017
  2. डी. के. निवातिया Dknivatiya 10/12/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 11/12/2017
  4. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 11/12/2017

Leave a Reply