पिया मिलन की आस…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

II कुंडलियां II

मन मेरा बिना घुँघरू, नाचे क्यूँ छम छम     I
जलधार मेरी आँखें, बिना बादल छम छम   II
बिना बादल छम छम, उठे है दिल में तरंग   I
पिया मिलन की आस, अंग अंग नयी उमंग  II
पवन चले मदमस्त, सुगन्धित है मन आँगन   I
रुका समय ओ दिल भागे बिना धीरज मन  II
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 04/12/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 02/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 04/12/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/12/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 04/12/2017

Leave a Reply