काहे का इंसान

काहे का इंसान

जिसमे सेवा का भाव नहीं
मानवता का एहसास नहीं
जो खुद से ही अनजान हैं
वह काहे का इंसान हैं!

जिसमे ना देश की सोच हैं
जो देश की ऊपर बोझ हैं
यहाँ उसका ना कोई स्थान हैं
वह काहे का इंसान हैं!

जो हरदम ही दुख में रहता हैं
जो औरों को भी दुख देता हैं
जो हर सुख से अनजान हैं
वह काहे का इंसान हैं!

जिसके भीतर कोई प्यार नहीं
जिसके हो अच्छे विचार नहीं
नफ़रत ही उसकी शान हैं
वह काहे का इंसान हैं!

जो राम-रहीम के नाम पर लड़ रहा
बिन बातों की जिद पे अड़ रहा
जो ईश्वर का करता अपमान हैं
वह काहे का इंसान हैं!

जिसमे भरा अभिमान हैं
ना औरो का सम्मान हैं
उसका झूठा सारा ज्ञान हैं
वह काहे का इंसान हैं!

✍🏻✍🏻मु.जुबेर हुसैन

6 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 01/12/2017
    • md. juber husain md. juber husain 06/12/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/12/2017
    • md. juber husain md. juber husain 06/12/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 02/12/2017
    • md. juber husain md. juber husain 06/12/2017

Leave a Reply