बार-बार – डी के निवातिया

बार-बार

***

वो कौन है जो दिल को दुखाता है बार-बार !
अश्क बहते नहीं दिल करहाता है बार-बार !!

वफ़ा संग बेवफाई दस्तूर पुराना है जमाने का
फिर क्यों दास्ताँ जमाने को सुनाता है बार बार !!

जी भर के खेला है, मनमर्जी तोडा मरोड़ा है,
बड़ी संगदिली से रिश्ता निभाता है बार-बार !!

वो सितम करे,या रहम करे, किसे परवाह है
कुछ बात है जो दर्द-ऐ-दिल भाता है बार बार !!

“धर्म” को भी जिद है फना हो तो उसी के हाथ हो
इश्क में जां लुटाने में, मज़ा आता है बार बार !!

!

डी के निवातिया

21 Comments

  1. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 27/11/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 27/11/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/11/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 28/11/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  5. Sonu Sahgam sonu sahgam 28/11/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  6. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 28/11/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  7. Abhishek Rajhans 29/11/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  8. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 29/11/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  9. Shyam Shyam tiwari 04/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/12/2017
  10. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 10/12/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/12/2017
  11. Madhu tiwari Madhu tiwari 11/12/2017

Leave a Reply