मजहबी दीमक

इरादे नेक हों गर तो असर काफिरों की नमाज में भी होता है
चाहे आयतें तुम उस खुदा की इबादत में पढ़ लो
या लाख टोटके तुम उसकी चापलूसी की आड़ में कर लो
जहाँ रोटियाँ मजहबी चूल्हे पे सेंकी जाती हो
वो शहर सिर्फ सियासतदारों के मंसूबों में आबाद होता है।।

 

6 Comments

  1. Arun Kant Shukla Arun Kant Shukla 23/11/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 24/11/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/11/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/11/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/11/2017
  6. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 29/11/2017

Leave a Reply