◆Mind न करो भाई◆

लो अब आजम बतायेंगे
क्या थे काम राजपूतों के
पूछे जरा बापसे अपने
कारनामे राजपूतों के

संभल कर बात कर पगले
कहीं न हो म्यान खाली
अभी सोये नही हैं वो
दबे हथियार राजपूतों के

मानो तो समझ लेना
तुम धमकी ही हमारी ये
तुम जैसे ना यहाँ के थे
हौसले काफ़ी राजपूतों के

शराफत देन है हिंद की
सहना भी खूब आता है
अरे तू इंतहा तो कर
सुन फिर शोर राजपूतों के
——————//**–
शशिकांत शांडिले, नागपूर
भ्र.९९७५९९५४५०

2 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 23/11/2017

Leave a Reply