गुरु

1
गुरु ज्ञान देता हैं
हमें पहचान देता है
जिस धरा पे गुरु का मान होता है
वह इश्वर का स्थान होता है
है अमृत नहीं क्षीर सागर में
गुरुमुख में उसका निर्माण होता है
2
हीरे तराशता है जौहरी
गुरु हीरा निर्माण करता है
कुम्हार गढ़ता है मिट्टी को
गुरु इंसान गढ़ता है
इंसानों के वेश में
गुरु भगवान् होता है
3
गुरु जब चाणक्य होता है
शिष्य चन्द्रगुप्त महान होता है
वसिष्ठ ,विश्वामित्र गुरु हो जब
तब शिष्य भारत वर्ष का श्रीराम होता है
गुरु जब पीठ थपथपाए
शिष्य कुरुक्षेत्र जीत जाता है
4
गुरु जीवन दर्शन कराता है
जीवन की बारीकियां सिखलाता है
गुरु आस होता है
गुरु विश्वास होता है
अज्ञान का अँधेरा मिटाने को
गुरु सूर्य सा उदयमान होता है

4 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/11/2017
  2. Kajalsoni 20/11/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/11/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/11/2017

Leave a Reply