हम अपनी कलम से हिंदुस्तान लिखते है …. (पीयूष राज)

मुक्तक

हम ना हिन्दू ना मुसलमान लिखते है
हम ना गीता ना कुरान लिखते है
दिल की जज्बातो को शब्दों में पिरोकर
हम अपनी कलम से हिंदुस्तान लिखते है

✍🏻© पियुष राज
दुमका झारखंड

Leave a Reply