रंग मेहँदी का

ओ पिया !
तेरे रंग में रँगाई
बाजे ढोल बाजे शहनाई
आँखों में काजल लगाई
तेरे नाम की बिंदी माथे पे लगाई
मेहँदी तेरे नाम का हाथों पे रचाई
केशो को गजरा से महकाई
सुर्ख होठों पे लाली लगाई

ओ पिया !
ये मेहँदी मेरे हाथों पर तेरा निशान है
इसका रंग तेरा एहसास है
चढ़ गया है इस कदर मुझपे
रंग मेहँदी का
ओ ! रंगरसिया
जब तक तेरा मेरा करार है
जब तक प्यार है
रंग मेहँदी का
मेरे हथेलियों पे बरक़रार है—-अभिषेक राजहंस

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 17/11/2017
  2. Kajalsoni 19/11/2017

Leave a Reply