वक्त – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा (बिन्दु)

वक्त का बहाना अच्छा है
अंधे को आईना दिखाना अच्छा है
मजबूरियों की बात कुछ और है साहब
अच्छों – अच्छों को मुर्ख बनाना अच्छा है।

7 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 12/11/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/11/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 13/11/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/11/2017
  5. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 13/11/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/11/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 13/11/2017

Leave a Reply