ज़िन्दगी तेरी राहों में – शिशिर मधुकर

मुहब्बत ढूँढी पुतलों में तो बस धोखे मिलें मुझको
ज़िंदगी कैसे कह दूँ मेहरबान आखिर बता तुझको

चले बस सच की राहों पे तो देखो कुछ ना पाया है
डगर तपती है शोलों सी ना दिखती कोई छाया है

जवानी ढल गई अब तो ना कोई अरमां मचलते हैं
ज़िन्दगी तेरी राहों में हम तन्हा रह कर सम्भलते हैं

वक्त रहता नहीं है एक सा ये सुनते आए हैं कब से
कभी हम पे भी हो उसकी महर कह दे कोई रब से

खुदी को कर बुलंद तब ही खुदा जब पास हो तेरे
रजा लेगा ना कोई वरना और मिलेंगे तुझको अंधेरे

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 29/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/10/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 29/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/10/2017
  3. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 29/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/10/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 29/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/10/2017
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 30/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/10/2017
  6. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 30/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/10/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 30/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/10/2017
      • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 31/10/2017
        • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/10/2017

Leave a Reply