जवाब नहीं होता

कई बार कुछ बातों का
जवाब नहीं होता

उठते हैं जब तूफ़ाँ
आँधियोँ का हिसाब नहीं होता

बढ़ जाती हैं कभी बेचैनियाँ तो
प्रभु शरण बिना,
रास्ता कोई और नहीं होता

जाना इस पार से उस पार
बिन पतवार नहीं होता

कई बार जि़न्दगी में
कुछ बातों का जवाब नहीं होता

खा़ब तो बस, होता है खा़ब
जब तक वो साकार नहीं होता

गिरती हैं जब बिजलियाँ तो
महलों का भी आकार नहीं होता

खा़क हो जाने पर
शोलों में अँगार नहीं होता

अरमानों का चाहतों का
कोई बाजा़र नहीं होता

न हो रजा़ तेरी तो
तेरा दीदार नहीं होता

आसानी से कट जाएँ बन्धन
कभी अक्समात नहीं होता

आँधियों में दीप जलाना
हवाओं की तेज़ियों को सह पाना
कभी यूँ ही नहीं होता

चैन तेरे चरणों मे पाना
सुख दुख हँसके निभाना
कभी यूँ ही नहीं होता

सोचते रहते हैं हम मगर
कई बार
कुछ बातों का जवाब नहीं होता

23 Comments

  1. डी. के. निवातिया Dknivatiya 28/10/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 28/10/2017
  4. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 28/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2017
  6. C.M. Sharma C.M. Sharma 28/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2017
  7. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2017
  8. Abhishek Rajhans 28/10/2017
  9. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2017
  10. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/10/2017
  11. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2017
  12. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 29/10/2017
    • kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 30/10/2017
    • kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 31/10/2017
    • kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 31/10/2017
  13. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 30/10/2017
  14. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 30/10/2017
  15. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 31/10/2017
  16. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 31/10/2017

Leave a Reply